किसान की बेटी हूं किसान के दर्द को महसूस कर सकती हूं —-जानीबाई शंभूलाल धाकड़ जिला पंचायत सदस्य उम्मीदवार वार्ड क्रमांक 1 जानीबाई शंभूलाल धाकड़ ने किया ग्राम डाबडा, सुजानपुरा, कंवर जी की खेड़ी, राणाखेड़ी, उमर में तूफानी जनसंपर्क

*किसान की बेटी हूं किसान के दर्द को महसूस कर सकती हूं —–जानीबाई शंभूलाल धाकड़ जिला पंचायत वार्ड सदस्य (1)*

*जानीबाई शंभूलाल धाकड़ ने किया ग्राम डाबड़ा, सुजानपुरा, कंवर जी की खेड़ी, राणा खेड़ी, उमर में तूफानी जनसंपर्क*

सिंगोली:- मंगलवार को जिला पंचायत वार्ड क्रमांक एक की सदस्य पद की उम्मीदवार श्रीमती जानीबाई शंभूलाल धाकड़ ने ग्राम डाबड़ा, सुजानपुरा, कंवर जी की खेड़ी, राणा खेड़ी, उमर में तूफानी जनसंपर्क किया इस अवसर पर उन्होंने बड़े बुजुर्ग महिला और पुरुष मतदाताओं से आशीर्वाद भी लिया जनसंपर्क के दौरान युवाओं में काफी उत्साह देखा गया जनसंपर्क करने के दौरान उन्होंने कहा कि मैं किसान की बेटी हूं और किसानों के दुख को महसूस कर सकती हूं उन्होंने जनसंपर्क के दौरान मतदाताओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि आप लोगों ने अगर आशीर्वाद दिया तो मैं उस कर्ज को क्षेत्र में चहुमुखी विकास कर आप के कर्ज को सुद सहित वापस लौटाऊगी पूर्व में भी आप लोगों ने मंडी अध्यक्ष के लिए मुझे आशीर्वाद दिया था उसमें भी मैंने पूरी ईमानदारी पूर्वक आप लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए कार्य किया है जो आप लोगों के सामने हैं इसका मुझे किसी को प्रमाण देने की आवश्यकता नहीं है इस बार भी मैं आप लोगों के बीच पुन: आशीर्वाद लेने आई हूं उन्होंने कहा कि प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी किसानों के दर्द को महसूस किया है और कई किसान हितेषी योजनाएं प्रदेश में लागू की हैं उसी का परिणाम है कि आज किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है भारतीय जनता पार्टी जनता से ना तो झूठे वादे करती है और ना ही झूठे दिलासे जनता को देती हैं हमारे क्षेत्र के कोने कोने में विकास की सोच रखने वाले और क्षेत्र में विकास की नई इबादत लिखने वाले हमारे क्षेत्र के यशस्वी कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा जी ने भी विकास में कोई कमी नहीं रखी है आज उनकी विकासवादी सोच के चलते क्षेत्र विकास में नए आयाम स्थापित कर रहा है उन्होंने मतदाताओं से आह्वान किया कि क्षेत्र के चहुंमुखी विकास के लिए वे एक बार फिर आशीर्वाद प्रदान करें ताकि जो सपना मैंने क्षेत्र के विकास का देखा है उसे मैं पूरा कर पाऊं