ग्राम पंचायत देहपुर के खेतों में जंगली सूअर मचा रहे भारी तबाही किसानों की मक्का की फसल को किया चौपट पीड़ित किसानों ने शासन से उचित मुआवजे की मांग की

*ग्राम पंचायत देहपुर के खेतों में जंगली सूअर मचा रहे भारी तबाही, किसानो की मक्का की फसल को किया चौपट*

*पीड़ित किसानों ने शासन से उचित मुआवजे की मांग की*

सिंगोली:- जहां इस वर्ष अच्छी बरसात के कारण किसानों को इस वर्ष बढ़िया पैदावार होने की आज जगी थी और कुछ ही समय में फसलें पकने की तैयारी मे भी है। लेकिन जंगली सूअरो व जंगली जानवरों के कारण फसले नष्ट होने के चलते किसान खून के आंसू रोने पर मजबूर हो रहे हैं। खेतों में खड़ी फसलों को जंगली जानवरों एवं जंगली सूअरों के झुंड के झुंड आकर क्षेत्र में खैतो मे लहलहाती फसलों को बुरी तरह से चौपट कर तबाह कर रहे हैं। किसानों के सामने अपनी फसलों को जंगली जानवरों से बचाने की बहुत बड़ी चुनौती बनी हुई है सबसे बड़ी विकट समस्या यह है कि किसान जब वन विभाग के पास जाता है तो वन विभाग के अधिकारी इसे राजस्व विभाग का मामला बताकर उनके पास भेज देते हैं। वही किसान जब राजस्व विभाग के पास पहुंचता है तो वे इसे वन विभाग का मामला बताकर अपना पल्ला झाड़ देते हैं। थक हार कर लाचार और बेबस पीड़ित किसान अपनी समस्या के समाधान के लिए यह नहीं समझ पा रहा है कि वन्यजीवों से हुई फसल नुकसानी के सर्वे के लिए आखिर वह कौन से विभाग में जाकर अपनी समस्या को बताएं। ऐसा ही एक मामला ग्राम पंचायत देहपुर के किसानो का आया है। कृषक लालूराम पिता भूरा कुमावत, एवं हेमा पिता रामचंद्र कुमावत के खेत मे खड़ी मक्का की फसल को जंगली सूअरों एवं जंगली जानवरों के द्वारा बुरी तरह से तहस नहस कर नष्ट दिया गया।
विस्तृत जानकारी के अनुसार लालूराम पिता भूरा कुमावत जिसके खेत का सर्वे नंबर 681/1/2 रकबा 0.216 हेक्टेयर भूमि एवं हेमा पति रामचंद्र कुमावत के खेत का सर्वे नम्बर 681/1/4, 685/1, 685/2 का कुल रकबा 0.200 हेक्टेयर भूमि जिस पर इस वर्ष मक्का की फसल बोई थी। और उक्त फसल बहुत अच्छी स्थिति में लहलहा रही थी एवं कुछ ही समय में पकने की कगार पर थी इसी बीच रात्रि में जंगली जानवरों एवं जंगली सूअरों के द्वारा पूरी फसल को तहस-नहस कर तबाह कर दिया। दर्शकों की आजीविका का एवं गुजर-बसर का सहारा उक्त फसल के नष्ट होने से रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। दोनों पीड़ित क्रश को एवं ग्रामीणों ने ग्राम पंचायत देहपुर के सरपंच उपसरपंच एवं ग्रामीणों के साथ पहुंचकर रतनगढ़ वन विभाग के कार्यालय पर वन परिक्षेत्र अधिकारी पी.एल. गहलोत एवं तहसील टप्पा कार्यालय पर पदस्थ नायब तहसीलदार श्रीमती मोनिका जैन, लोक सेवा केंद्र सिंगोली, एवं जिला कलेक्टर महोदय नीमच को आवेदन देकर नष्ट हुई फसलो का मौका मुआयना कर उचित मुआवजा देने की मांग की गई। ग्राम पंचायत सरपंच पति जगदीश भील, उपसरपंच श्रवण गुर्जर, प्रकाश कुमावत, नानालाल चारण, हीरा लाल कुमावत, हेमराज गुर्जर, लालूराम कुमावत, शोभालाल गुर्जर, छीतर मल भील, रतिराम गुर्जर, रामेश्वरलाल कुमावत आदि ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों को आवेदन देकर पीड़ित कृषकों लालूराम पिता भूरा कुमावत एवं हेमा पति रामचंद्र कुमावत को उचित मुआवजा दिलाए जाने की मांग की।
इस संबंध में रतनगढ़ रेंज अधिकारी पीएल गहलोत का कहना है कि यह राजस्व विभाग का मामला है हमारे विभाग में नहीं आता है। वही नायब तहसीलदार श्रीमती मोनिका जैन ने भी इसे वन विभाग का मामला बताया लेकिन पीड़ित कृषकों को शिघ्र मौका मुआयना करवाने का आश्वासन दिया