ग्राम बोरदीया में लक्ष्मीनाथ मंदिर शिखर प्रतिष्ठा का पाच दिवसीय कार्यक्रम शुरू हाथी घोड़ों के साथ निकली भव्य शोभायात्रा

*ग्राम बोरदिया में लक्ष्मीनाथ मंदिर शिखर प्रतिष्ठा का 5 दिवसीय कार्यक्रम शुरू,*

*हाथी घोड़ों के साथ निकली भव्य शोभायात्रा।*

*27 मई शुक्रवार को होगी महायज्ञ की पूर्णाहुति*

सिंगोली। तहसील क्षैत्र में ग्राम बोरदिया स्थित भगवान लक्ष्मीनाथ मंदिर पर शिखर प्रतिष्ठा हेतु आयोजित पंच कुण्डीय यज्ञ का पांच दिवसीय कार्यक्रम शुरू हो गया है।
मंगलवार सुबह प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार कार्यक्रम के प्रारम्भ में सोमवार को हाथी, घोड़ों और पालकी के साथ भव्य शोभायात्रा निकाली गई। यह शोभायात्रा ग्राम मानपुरा से शुरू होकर करीब डेढ़ से दो किलोमीटर दूर बोर्दिया स्थित यज्ञ स्थल पहुंची, जहां वेदी निर्माण कर पंच कुण्डीय महायज्ञ का शुभारंभ किया गया।
इस बाबत कार्यक्रम समिति की ओर से प्राप्त जानकारी के अनुसार 24 मई मंगलवार को वेदी आव्हान, अग्नि स्थापन, कर्म कुटी प्रयोग और हवन का शुभारंभ किया जाएगा, जबकि रात्रि में राजस्थान के प्रसिद्ध भजन गायक बद्रीलाल गाडरी द्वारा देवनारायण कथा का वचन किया जाएगा।
इस तरह कार्यक्रम के दौरान प्रतिदिन अलग अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।
25 मई बुधवार को भजन गायक श्रवण सेंदरी द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी जबकि राजस्थान की प्रसिद्ध नृत्यांगना हंसा रंगीली द्वार भजनों पर आकर्षक नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा। इसी दिन भीलवाड़ा राजस्थान के प्रसिद्ध कॉमेडियन रमेश कुमावत द्वारा आकर्षक हास्य मनोरंजन की प्रस्तुति दी जाएगी। इस दौरान रायला राजस्थान के नामी साउंड सिस्टम राज डीजे द्वारा कार्यक्रम को मनमोहक बनाया जायेगा।
26 मई गुरुवार को मुंगाना राजस्थान के प्रसिद्ध भजन गायक जगदीश वैष्णव द्वारा सांवरिया सेठ के भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी। तथा 27 मई शुक्रवार को शिखर प्रतिष्ठा के साथ ही कार्यक्रम की पूर्णाहुति होगी।
समिति द्वारा प्राप्त जानकारी में यह भी बताया गया कि महायज्ञ में बोरदिया के कैलाश पाटीदार मुख्य यजमान के रूप में मौजद रहेंगे, जबकि अर्जुन पाटीदार द्वारा भगवान लक्ष्मीनाथ मंदिर पर शिखर (कलश) स्थापना की जाएगी। इसी तरह जावद जनपद पंचायत के पूर्व अध्यक्ष सत्यनारायण पाटीदार संपूर्ण कार्यक्रम में मुख्य प्रबंधक के रूप में दिखाई देंगे।
27 मई शुक्रवार को ही कार्यक्रम की पूर्णाहुति के बाद महाप्रसादि का कार्यक्रम संपन्न होगा।