नीमच सिंगोली कोटा रेल लाइन के लिए मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने रेल मंत्रालय को लिखा पत्र निर्माण स्वीकृति दिलाने की की मांग

*नीमच सिंगोली कोटा रेल लाइन के लिए मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने रेल मंत्रालय को लिखा पत्र।*

*निर्माण स्वीकृति दिलाने की की मांग।*

सिंगोली। वर्ष 2014 में स्वीकृत होकर लंबित पड़ी नीमच – कोटा रेल लाइन के लिए शुक्रवार को प्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने रेल मंत्रालय को पत्र लिखा है।
मंत्री श्री सकलेचा ने नीमच क्षैत्र मे रेल सुविधाओं के विस्तार के साथ साथ लंबित उक्त रेल लाइन के निर्माण स्वीकृति की भी मांग की है।
इस आशय की जानकारी देते हुए सिंगोली भाजपा मंडल अध्यक्ष श्री गोपाल लाल धाकड़ ने बताया है कि नीमच – सिंगोली – कोटा रेल लाइन के निर्माण स्वीकृति की मांग को लेकर उन्होंने कई बार मंत्री श्री सखलेचा से चर्चा भी की थी।
क्षेत्र के विकास को गति देते हुए मंत्री जी ने 15 अप्रैल शुक्रवार को रेल मंत्रालय को पत्र लिखकर उक्त लंबित रेल लाइन की स्वीकृति की मांग की है।
मंत्री श्री सकलेचा ने अन्य रेल सुविधाओं के साथ-साथ मंत्रालय को अवगत कराया की नीमच – सिंगोली – कोटा रेल लाइन जिसका सर्वे कार्य पूर्ण हो चुका है। जिसकी आगे की कार्रवाई रेलवे बोर्ड अध्यक्ष की टेबल नंबर 13 पर लंबित है। उक्त रेल लाइन के निर्माण की स्वीकृति प्रदान करने का कष्ट करें।
बता दें कि उक्त रेल लाइन के सर्वे को वर्ष 2014 में हरी झंडी मिली थी, जिसका सर्वे वर्ष 2018 में पूर्ण हो चुका था। जिस पर पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर मुख्यालय ने करीब 35 लाख रुपए से ज्यादा का खर्च कर दिया है।
सर्वे कार्य पूर्ण करने के बाद जबलपुर मुख्यालय द्वारा विस्तृत रूपरेखा के साथ परियोजना को निर्माण स्वीकृति हेतु रेलवे बोर्ड की ओर प्रेषित किया था। जो वर्ष 2018 के बाद से रेलवे बोर्ड अध्यक्ष के कार्यालय की टेबल नंबर 13 पर आगे की कार्रवाई की स्वीकृति हेतु लंबित है।
हालांकि इस रेल लाइन के लिए क्षेत्र की जनता लंबे समय से मांग कर रही है, लेकिन यह लाईन सकारात्मक राजनैतिक पहल के अभाव में लंबित है। लेकिन जब जब इस लाईन के लिए किसी नेता ने तनिक भी प्रयास किया, यह अपनी प्रगति की ओर चल पड़ती है, लेकिन जनप्रतिनिधि ठानले और इस ओर सतत सकारात्मक पहल करें तो अब यह परियोजना मुश्किल नहीं है। क्योंकि यह निर्माण स्वीकृति के अंतिम पड़ाव में है।