रतनगढ़ निकाय अध्यक्ष पद सामान्य वर्ग महिला के लिए आरक्षित मगर पिछड़े नेता ठोक रहे ताल नगर निकाय चुनाव की नगरीय क्षेत्र में हलचल शुरू अलग-अलग भाजपा नेताओं की अलग-अलग सूची

**रतनगढ़ निकाय अध्यक्ष पद सामान्य वर्ग महिला के लिए आरक्षित मगर पिछड़े नेता ठोक रहे ताल*

*नगर निकाय चुनाव की नगरीय क्षेत्र में हलचल शुरू अलग-अलग भाजपा नेताओं की अलग-अलग सूची*

सिंगोली:- नगर निकाय चुनाव की घोषणा होते ही गली मोहल्ले और चौराहे पर राजनीतिक सरगर्मियां भी बढ़ चुकी है वही पहले निकाय अध्यक्ष का चुनाव सीधे जनता द्वारा किया जाता था लेकिन इस बार निर्वाचित पार्षदों से अध्यक्ष का चुनाव किए जाने का अध्यादेश मध्यप्रदेश शासन द्वारा पारित किया गया है उसी के आधार पर नगर निकाय अध्यक्ष पदों पर अध्यक्ष निर्वाचित होगा अध्यादेश के लागू होने और आरक्षण प्रक्रिया संपूर्ण होने के पश्चात से ही रतनगढ़ परिषद क्षेत्र में भी राजनीतिक समीकरण बदल गए जहां इस बार रतनगढ़ नगर परिषद अध्यक्ष पद सामान्य वर्ग की महिला के लिए आरक्षित हुआ है वही भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश एवं जिला संगठन ने भी स्पष्ट गाइडलाइन जारी करते हुए कहा है कि सामान्य वर्ग की सीटों पर सामान्य वर्ग के व्यक्ति को ही मौका दिया जाएगा जो जीताऊ लोकप्रिय जनता में गहरी पैठ रखने वाला हो जो भविष्य में अध्यक्ष बन सके वह शिक्षित समझदार और पढ़ा लिखा हो लेकिन रतनगढ़ नगरीय क्षेत्र में हालात कुछ और बनते दिखाई दे रहे हैं जहां संगठन के सख्त दिशा निर्देशों के बावजूद स्थानीय नेताओं में आपसी खींचतान के चलते भाजपा के जिम्मेदार नेता और संगठन के पदाधिकारी तो कहीं पर पिछड़े वर्ग के नेता भी अध्यक्ष पद के लिए अपनी दावेदारी जताने में लगे हैं वही किस वार्ड से कौन प्रत्याशी संभावित हो सकता है जिस की सूची कोई घर बैठकर तो कोई अपनी जेब में लेकर घूम रहा है, निर्वाचन पूर्व के हालातों पर गौर करें तो अभी तक आम चौराहा और जनता की जुबान पर तथा राजनीतिक गलियारों में जो नाम उभर कर आए हैं उसमें वार्ड नंबर एक जो पूर्ण रूप से मुस्लिम बाहुल्य भी है वहां पर भाजपा की ओर से रामचंद्र माली और चांद मोहम्मद मिस्त्री प्रमुख दावेदार बनकर उभरे हैं हालांकि यहां पर भाजपा के लिए जीत की गुंजाइश ना के बराबर है वहीं वार्ड नंबर दो जोकि अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित है यहां पर इस बार सर्वा अनुमति से भाजपा के श्री रामपाल सोलंकी का नाम पार्षद पद हेतु प्रमुख रूप से उभर कर आ रहा है वही राजेश पृथ्वीराज सोलंकी भी प्रमुख दावेदार की दौड़ में शामिल हैं वही वार्ड नंबर तीन अनारक्षित है यह वार्ड पूर्व में भी कांग्रेस के पास रहा इसमें बोहरा समुदाय का वर्चस्व है देखते हैं इस बार इस पद को जीतने के लिए भाजपा क्या रणनीति अपनाती है और किसे प्रत्याशी बनाती है तथा वार्ड नंबर चार पिछड़ा वर्ग हेतु आरक्षित है यहां पर प्रमुख रूप से दावेदार के रूप मैं हसमुख सोनी, प्रह्लाद सोनी उस्ताद एवं पितांबर दास बैरागी का नाम प्रमुखता से सामने आ रहा है तो वार्ड नंबर पांच जो नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष ओम प्रकाश मूंदड़ा का ग्रह वार्ड भी है जिन्होंने नगर निकाय के अध्यक्ष पद पर रहते हुए नगर में कई ऐतिहासिक विकास कार्य करवाएं जो धरातल से जुड़े हुए हैं जो आमजन व,जमीनी कार्यकर्ताओं की पहली पसंद है वहां से पूर्व पार्षद रह चुकी उनकी पत्नी विजयलक्ष्मी मूंदड़ा वार्ड के कार्यकर्ताओं की पहली पसंद बनी है एवं उच्च शिक्षित होते हुए ग्रेजुएट है और साथ ही अध्यक्ष पद सामान्य महिला के लिए आरक्षित होने के चलते वार्ड और नगर की जनता इन्हें भावी अध्यक्ष पद के रूप में भी देख रही है जिन्हें अपने पति का लंबा प्रशासनिक एवं राजनीतिक अनुभव का लाभ भी मिलेगा वार्ड नंबर छै सामान्य वर्ग की महिला के लिए आरक्षित है इस वार्ड में मुस्लिम वोट निर्णायक है जहां पर महिला मोर्चा की सक्रिय नेता लक्ष्मी देवी नागदा बरसों से पार्टी के लिए समर्पित व्यास परिवार की बहू गायत्री देवी दीपक व्यास एवं हर तरह की जोड़-तोड़ में माहिर चुनाव जीतने वाले माया गौतम बैरागी इस वार्ड से भाजपा के टिकट के प्रबल दावेदार है वहीं वार्ड नंबर सात अनुसूचित जाति वर्ग महिला के लिए आरक्षित है जिसमें कस्तूरी बाई शंकरलाल वर्मा इस बार वार्ड की जनता की पहली पसंद है तो संगीता गोपाल वर्मा जो पूर्व परिषद में पार्षद रहे हैं अपनी दावेदारी कर रहे हैं वार्ड नंबर आठ जिसमें नेताओं की भरमार है सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित इस वार्ड में जहां प्रमुख रूप से हिम्मत जैन, घनश्याम शर्मा, धीरज ध्यान जैसे दिग्गज अपनी दावेदारी जता रहे हैं वहीं एक पिछड़े वर्ग के नेता इस अनारक्षित सीट पर अपनी पत्नी को पार्षद पद पर टिकट दिलाकर और उसे जीताकर अध्यक्ष की कुर्सी पर बिठाने का सपना संजो कर टिकट की भाग दौड़ कर रहे हैं वार्ड के नागरिकों का कहना है यदि पिछड़े वर्ग की महिला को ही टिकट दिया जाना है तो फिर पढ़ी-लिखी महिला मीना मंगल मीणा है जो ग्रेजुएट भी है क्यों ना उन्हें अवसर दिया जाए जिसका वार्ड में वर्चस्व भी है और सभी की पसंद भी वही अन्य दावेदारों में सुरेश साहू मंगल मीणा, प्रहलाद सोनी, शौकीन सोनी अपनी दावेदारी जता रहे हैं
वही वार्ड नंबर नो अनारक्षित वर्ग का है जिसमें भी जहां सामान्य वर्ग से साधना आशीष लड़ा जिनके परिवार का इस वार्ड में बड़ी संख्या में बोट बैंक भी है और अच्छा खासा वर्चस्व भी जहां से पिछड़े वर्ग से शिवनंदन छिपा अपनी पत्नी को चुनाव लड़ा कर अध्यक्ष बनाने की जुगाड़ में लगे हैं वही रिया जीतू टेलर प्रमुख दावेदार है वहीं ऐसी चर्चा है की पहले के निकाय चुनाव के दौरान दावेदारी कर रहे छिपा एवं दर्जी उम्मीदवार में समझौता हुआ था छिपा समाज का व्यक्ति यदि इस बार चुनाव लड़ा तो अगली बार टेलर समाज का व्यक्ति चुनाव लड़ेगा इसलिए टेलर उम्मीदवार की इस बार बारी है और उनका दावा प्रबल है वही इस वार्ड में बैरागी समाज के भी बड़ी संख्या में मत है जिसमें पवन बैरागी की पत्नी भी प्रमुख दावेदार हो सकती है, वार्ड नंबर दस अनारक्षित महिला के लिए आरक्षित हुआ है जिसमें प्रमुख रूप से रितु कमलेश अग्रवाल प्रमुख दावेदार है तो इन्हीं के परिवार के बड़े भाई लोकेश चिंटू अग्रवाल की पत्नी भी दावेदार है साथ ही लोकेश राठोर एवं लता अनिल सोडाणी अपनी पत्नी के लिए दावेदारी कर रहे हैं जिनके नाम चर्चा में है वार्ड नंबर 11 पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षित है इस वार्ड में बोहरा समुदाय के मत निर्णायक भूमिका में रहते हैं इसमें यदि भाजपा की कोई सीट निकाल सकता है तो वह है चंदा शिव कुमार बैरागी जो वर्तमान में महिला मोर्चा की मंडल अध्यक्ष भी है एवं अपने व्यवहार एवं महिला टीम के कारण लोकप्रिय चेहरा भी है यहां पर भाजपा के पास ज्यादा विकल्प नहीं है वार्ड नंबर बारह पिछड़ा वर्ग हेतु आरक्षित है इस बार वहां पर यदि भाजपा को अपनी सीट पुनः निकालना है तो आशीष सोहनलाल छिपा योग्य उम्मीदवार हो सकते हैं वही कमल राठौर एवं श्रीकांत छिपा मनोहर लाल सोनी भी एक अच्छे उम्मीदवार बन सकते हैं वार्ड नंबर तैरह अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित है इसमें प्रमुख रूप से भाजपा के पास प्रहलाद ड्राइवर कालूराम होला जो कांग्रेस से भाजपा में आए हैं एवं पढ़ा-लिखा युवा भी है जो पार्टी में सक्रिय है राहुल ताबड़ को भी भाजपा टिकट देती है तो पूरी जीत की संभावनाएं हैं वार्ड नंबर चोदह पिछड़ा वर्ग महिला हेतु आरक्षित है इस वार्ड में कार्यकर्ताओं की पसंद माया देवी सुनील बैरागी है जो अपनी दावेदारी जता रही है वही हसा हरीश माली राधाबाई सोहनलाल प्रजापत मुरलीधर बैरागी भी टिकट के प्रमुख दावेदार है साथ ही वार्ड नंबर पद्भह गुंजालिया कई वर्षों के बाद अनारक्षित श्रेणी में आया है यहां पर राजपूत मीणा चारण आदिवासी वर्ग के मतदाता प्रमुखता से रहते हैं ऐसे में पहली बार सामान्य वर्ग में उम्मीद की किरण जगी है उनकी मांग जायज भी है इस के लिए छोटू कुमार बलवंत सिंह राजपूत सभी की पहली पसंद है तो पारस कुंवर रघुनाथ सिंह गुड्डू बापू भी अपनी दावेदारी जता रहे है इसके अलावा द्रोपति जीवनलाल चारण द्रोपदी शंकरलाल चारण श्रीमती टीकम चारण भी यहां पर पार्टी की ओर से प्रमुख दावेदार है
,,,,, यदि भाजपा के सभी नेता टिकट वितरण से लगाकर चुनाव लड़ने तक एक रहे तो दोबारा भाजपा समर्थित नगर परिषद बनने की संभावनाएं है और यदि भाजपा के नेता एक दूसरे की टांग खींचने में लगे रहे और पार्टी मैं वर्षों से मेहनत करने वाले सक्रिय एवं जमीनी कार्यकर्ताओं के बजाय व्यवसायिक लोगो पैराशूट उम्मीदवारों नेताओं की परिक्रमा करने वाले कभी कभी मुंह दिखाने वाले लोगों को टिकट दिया तो फिर बड़ा उलटफेर हो सकता है और भाजपा का दोबारा नगर परिषद रतनगढ़ की सत्ता पर काबिज होने का सपना धूमिल हो सकता है