संयुक्त मोर्चा आईसीडीएस परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक संघ ने अपनी मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा का बहिष्कार करके शुरू की कार्य बंद हड़ताल

संयुक्त मोर्चा आईसीडीएस परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक संघ ने अपनी मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन,

स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा का बहिष्कार करके, शुरू की कार्य बंद हड़ताल

नीमच। महिला एवं बाल विकास विभाग मे प्रदेश के परियोजना अधिकारियों एवं पर्यवेक्षकों की लंबित मांगों को लेकर स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा का बहिष्कार करते हुए काम बंद हड़ताल शुरू कर दी गई।
संयुक्त मोर्चा आईसीडीएस परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक संघ ने अतिरिक्त मुख्य सचिव महिला एवं बाल विकास विभाग मध्यप्रदेश शासन एवं आयुक्त महोदय के नाम एक ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा जिसमें उन्होंने अपनी अनेक मांगे रखते हुए बताया कि परियोजना अधिकारी की ग्रेड पे 3600 से बढ़ाकर 4800 की जाए, परियोजना अधिकारियों को सामान्य प्रशासन पुलिस वित्त विभाग की तरह चार स्तरीय टाइम स्केल दिया जाए परियोजना अधिकारी को आहरण संवितरण अधिकार पुनः देकर विकेंद्रीकरण किया जाए वर्ष 2014 के बाद के सभी सीडीपीओ एवं बीडब्ल्यू ईओ की परिवीक्षा अवधि समाप्त की जाए, इसके अतिरिक्त पर्यवेक्षक संघ ने भी अपनी मुख्य मांगे ज्ञापन में रखी है जिसमें पर्यवेक्षकों का ग्रेड पे 2400 से बढ़ाकर 3600 किया जाए, पर्यवेक्षकों का नियमित प्रमोशन कर परियोजना अधिकारी के रिक्त पदों पर उन्हें नियुक्त किया जाए पर्यवेक्षकों को प्रतिमाह भ्रमण के आधार पर नियमित टीए डीए प्रदान किया जाए। पिछले 12/14 सालो से व्यापम की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले संविदा पर्यवेक्षकों को नियमित करने की मांग भी रखी गई है। ज्ञापन में बताया गया कि उपरोक्त मांगों को पूरा करने के लिए परियोजना अधिकारी एवं पर्यवेक्षक संघ द्वारा विगत लंबे समय से विभागीय मंत्री, मुख्यमंत्री, प्रमुख सचिव, प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास विभाग, एवं आयुक्त महोदय को अनेकों बार ज्ञापन दिया गया लेकिन किसी भी स्तर से उक्त मांगों को निराकृत नहीं किया गया जिसके चलते दोनों केडर के अधिकारियों में बेहद निराशा एवं असंतोष है। साथ ही ज्ञापन में बताया कि परियोजना अधिकारी संघ एवं पर्यवेक्षक संघ द्वारा दिनांक 21 मार्च से बालक बालिका स्पर्धा का बहिष्कार करते हुए संपूर्ण कार्य बंद कर हड़ताल की जा रही है।