सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग को बढ़ावा देने के लिए मध्य प्रदेश सरकार के क्रांतिकारी कदम — मंत्री श्री सकलेचा

*सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग को बढ़ावा देने के लिए मध्य प्रदेश सरकार के क्रांतिकारी कदम – मंत्री सकलेचा*

भोपाल। पीएचडी चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के मध्यप्रदेश इकाई द्वारा कल होटल सयाजी में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों के लिए वित्त सुविधा एवं विभिन्न योजनाओं के संबधित विषयों पर कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया। जिसमे चैम्बर के नई दिल्ली मुख्यालय, मध्यप्रदेश इकाई के पदाधिकारी, सिडबी , स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के वरिष्ठ अफसर व प्रदेश के कई उद्योगपति उपस्थित थे। पीएचडी सीसीआई मध्यप्रदेश इकाई के चेयरमैन इंजी संजीव अग्रवाल ने कांफ्रेंस की अध्यक्षता की। कार्यक्रम का उद्धघाटन मध्यप्रदेश सरकार में MSME, साइंस व टेक्नोलॉजी विभाग के कैबिनेट मंत्री श्री ओपी सकलेचा ने किया। उन्होंने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों के लिए वित्त सुविधा एवं केंद्र व मध्यप्रदेश शासन द्वारा चलाई जा विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने पीएचडी चैम्बर द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सरहाना की वही चैम्बर व MSME से जुडी क्रियान्वयन जटिलताओं पर भी चर्चा की, तेज़ी से बदलते परिवेश में टेक्नोलॉजी को सही समय सही तरीके से इस्तेमाल करने व वित्त प्रबंधन, देश में मेक इन इंडिया व राज्य में फ़ूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाने पर जोर दिया। सरकार की स्वरोज़गार व युवा पीढ़ी को MSME उद्योग में सहयोग के लिए उद्योग क्रांति व अन्य योजनाओं पर भी चर्चा की।
चैम्बर की मध्यप्रदेश इकाई के चेयरमैन इंजी संजीव अग्रवाल ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग को बढ़ावा देने, वित्त संस्थान द्वारा लोन प्रक्रिया को सरल बनाने व टेक्नोलॉजी के उपयोग को बढ़ावा देने की बात कही। इंजी अग्रवाल ने बताया कि मध्य प्रदेश चैप्टर द्वारा सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्योगों जो की प्रदेश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, व सबसे अधिक रोजगार दे रहा है। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म लघु उद्योगों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता इसलिए है क्योंकि देश में करीब 6.5 करोड़ एमएसएमई है जो 12 करोड़ से ऊपर लोगों को रोजगार देते है. यदि हम देखे तो देश की जीडीपी में इनका बहुत बड़ा योगदान है और यही उद्योग है जो बड़े उद्योगों को चलने में भी मदद करते है. हमारा देश एक बड़ी जनसंख्या वाला देश है और सबसे अधिक युवा आबादी वाला देश है इसलिए यह सम्भव नहीं की सभी के लिए सरकारी नौकरी उपलब्ध हो इसलिए हमे अधिक से अधिक युवाओं को छोटे छोटे उद्योग लगाने के लिए प्रेरित करना चाहिए। पीएचडी चैम्बर मध्य प्रदेश सरकार द्वारा इस दिशा में किए जा रहे प्रयासों की सराहना करता है और सरकार के हर प्रयास में कंधे से कंधा मिलाने के लिए तत्पर है।
इंजी अग्रवाल ने मुख्यमंत्री द्वारा हाल ही मे रोजगार और उद्योगों को बढावा देने के लिए उद्यम क्रांति योजना शुरू करने के लिए आभार व्यक्त किया जिसमें बिना गारंटी युवाओं को उद्योग लगाने के लिए लोन दिया जाएगा। कार्यक्रम में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के चीफ जनरल मैनेजर बिनोद कुमार मिश्रा ने स्टेट बैंक द्वारा देश में MSME को और मज़बूत करने के लिए किये जा रहे प्रयास पर प्रकाश डाला व कार्यक्रम में स्टेट बैंक द्वारा फाइनेंस व हर संभव सहयोग के लिए आशवस्त किया।
डॉ योगेश श्रीवास्तव , असिस्टेंट सेक्रेटरी जनरल, पीएचडी चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज, ने कार्यक्रम का संचालन किया व चैम्बर के अब तक के किये कार्य से उपस्थित जन को अवगत कराया। कांफ्रेंस में आये उद्योगपति व इंडस्ट्री से जुड़े लोगो ने MSME मंत्री व स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के चीफ जनरल मैनेजर बिनोद कुमार मिश्रा से सम्बंधित प्रश्न पूछे व मौजूदा समस्याओ पर चर्चा की। कार्यक्रम के अंत में एमपी-पीएचडी की को-चेयर प्रीति सलूजा ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया व चैम्बर द्वारा किया जा रहे प्रयासों को संक्षिप्त में बताया।
सिडबी के सहायक महा प्रबंधक श्री आनंद किशोर यादव ने भी विभिन्न वित्तीय योजनाओं की जानकारी प्रतिभागियों को दी .कार्यक्रम में सिडबी और स्टेट बैंक का सहयोग रहा।