रवींद्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय मैं शोध शिखर 2022 का शुभारंभ शोध को उद्योगों से जोड़ने की जरूरत आईटी मंत्री श्री सकलेचा

*रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय में ‘‘शोध शिखर 2022’’ का शुभारंभ*

*शोध को उद्योगों से जोड़ने की जरूरत : आईटी मंत्री श्री सखलेचा*

भोपाल : 25 मार्च 2022
विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा सूक्ष्म, लघु,मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा है कि शोध जीवन की नई रचनाओं के संबंध में दिशा प्रदान करता है और शोध के निष्कर्षों का लाभ उद्योगों को भी मिलना चाहिए। श्री सखलेचा शुक्रवार को रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय में दो दिवसीय प्रथम अखिल भारतीय अंतरविश्वविद्यालयीन शोध तथा नवाचार महोत्सव ‘‘शोध शिखर-2022’’ का शुभारंभ करने के बाद सम्बोधित कर रहे थे।
मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि हमारे ज्ञान-विज्ञान, गणित, चिकित्सा व्यवस्था को पूरी दुनिया ने अपनाया है । कोविड महामारी को भी हमने एक अवसर के रुप में लिया है। भारत का पहले वैश्विक अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान था । अब देश को वापस उसी स्थिति में लाना है । आत्मनिर्भर भारत के आह्वान से यह संभव है ।उन्होंने कहा कि आज चुनौती यह है कि शोध को उद्योगों से कनेक्ट किया जाए । एक ही विचार का रिपीटेशन ना हो । उन्होंने शोधार्थी और विद्यार्थियों को संदेश दिया कि अपनी ऊर्जा का सौ प्रतिशत दें तथा सामूहिक रुप से कार्य करके ही हम आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्यों को पा सकेंगे ।
मंत्री श्री सखलेचा ने शोध शिखर की ‘स्मारिका’ का विमोचन और शोध प्रोजेक्ट की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इससे पूर्व उन्होंने रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के अटल इन्क्यूबेशन सेंटर का भ्रमण किया। सेंटर की प्रशंसा करते हुए उन्होंने अपने सुझाव भी व्यक्त किए । इस मौके पर रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री संतोष चौबे ने भी संबोधित कर आगे की रूपरेखा बताई ।
इस दौरान डॉ. भरत शरण सिंह, अध्यक्ष, मध्यप्रदेश निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग, डॉ. राजीव बिनिवाले, महानिदेशक, रिसर्च फॉर रिसरजेंस फाउंडेशन, श्री संतोष चौबे, कुलाधिपति, रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, श्री अमोघ गुप्ता, अध्यक्ष, विज्ञान भारती मध्य भारत, श्री गुरुराज राव, वैज्ञानिक, डीआरडीओ, श्री सिद्धार्थ चतुर्वेदी, प्रो-चांसलर आरएनटीयू, डॉ. ब्रम्ह प्रकाश पेठिया, कुलपति आरएनटीयू, डॉ. विजय सिंह, कुलसचिव, आरएनटीयू, प्रो. वी. के. वर्मा, संयोजक शोध शिखर उपस्थित थे।
उल्लेखनीय है कि विज्ञान भारती मध्यभारत प्रांत, एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटी, रिसर्च फॉर रिसरजेंस फाउंडेशन, यूनाइटेड नेशन डेवलपमेंट प्रोग्राम, मध्य प्रदेश काउंसिल फॉर साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी जैसी संस्थाएं भी इस आयोजन से जुड़ी हुई हैं।