गरीबों के हक का चावल की कालाबाजारी मैं भाजपा नेता के रंगे हाथ अंधेर नगरी चौपट राजा की तर्ज पर पीडीएस चावल की कालाबाजारी बेखौफ जारी

रामपुरा
नगर में इन दिनों पीडीएस चावल की कालाबाजारी चरम पर है सरकार गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले को सस्ती दर पर सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत एक रुपए किलो के माध्यम से गरीबों को चावल वितरण करती है परंतु कालाबाजारी उक्त चावल को गरीबों से औने पौने दाम पर खरीद कर बाजार में ऊंचे मूल्य पर बेचकर बड़ा मुनाफा कमा रहे हैं
यह चावल नागरिक आपूर्ति विभाग के माध्यम से हर महीने गरीबों को वितरित किया जाता है, लेकिन बेईमान लोग इसे काला बाजार में बेचते हैं, ज्यादातर पड़ोसी राज्यों जैसे कर्नाटक और महाराष्ट्र या पोल्ट्री फार्म या ब्रुअरीज को। पोल्ट्री फार्म के मालिक मकई और चावल को बदल देते हैं और इसे पक्षी के बीज के रूप में इस्तेमाल करते हैं, ब्रुअरीज शराब बनाने के लिए उनका इस्तेमाल करते हैं।

लाभार्थी इस चावल को तस्करों को बेचते हैं,

पोल्ट्री व्यापारी काला बाजार में राशन चावल के सबसे बड़े खरीदार हैं क्योंकि मक्का तुलनात्मक रूप से काफी महंगा है। पैसे के लालच में कुछ लोग विशेष रूप से राशन कार्डधारकों से चावल खरीदने का काम करते ह

पीडीएस चावल जहां पहले 1 रुपये प्रति किलो बिकता था, वहीं सरकार पिछले अप्रैल से कोविड के कारण इसे मुफ्त में दे रही है। लाभार्थी इसे छोटे होटलों और किराने की दुकानों के साथ-साथ कालाबाजारी करने वालों को 8 रुपये से 10 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेचते हैं।

कालाबाजारी करने वाले इसे 15 रुपये से 20 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेचते हैं।

मामला आज रामपुरा पुलिस को मुखबिर से मिली जानकारी के अनुसार
आज दिनाँक को रामपुरा पुलिस दुवारा 10 बेग चावल के जिसका कुल वजन 6 क्वि. ईश्वर लाल पिता सत्यनारायण रत्नावत सरपंच प्रतिनिधि

से जप्त कर पुलिस थाना रामपुरा परिसर में रखवाया गया । मोके पर सूचना मिलने पर कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी दुवारा रामपुरा थाना परिसर में रखे चावल की जांच की गई । चावल प्रथम दृष्टिया सार्वजनिक वितरण प्रणाली का होना प्रतीत हुआ जिस आधार पर चावल को जप्त कर सुपुर्दगी में प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था रामपुरा को आगामी आदेश तक सुरक्षित रखने हेतु दिया गया । ईश्वर लाल रत्नावत से चावल के बारे में पुछताज कई गई उनके दुवारा कोटा के बिल पेश किए गए जो 5 माह पूर्व के है । प्रकरण तैयार कर कलेक्टर महोदय को प्रस्तुत कर आगामी कार्यवाही की जाएगी ।